Home » INS Vikrant: PM Modi ने पहला स्वदेशी Aircraft Carrier नौसेना को सौंपा , क्या है ताकत और क्या है लागत ?

INS Vikrant: PM Modi ने पहला स्वदेशी Aircraft Carrier नौसेना को सौंपा , क्या है ताकत और क्या है लागत ?

INS Vikrant

INS Vikrant: आज भारत देश के लिए ऐतिहासिक दिन है । प्रधान मंत्री मोदी ने आज 2 सितम्बर 2022 को पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर “आईएनएस विक्रान्त ” भारतीय नौसेना को सौंप दिया । ये देश के समुद्री इतिहास में बनाया गया अब तक का सबसे बड़ा जहाज है । इस जहाज में लगा स्टील भी स्वदेशी है ,जिसको विकसित करने का श्रेय भी भारतीय वैज्ञानिकों  को जाता है । यह पहला मेड इन इंडिया एयरक्राफ्ट है । इसके हर एक भाग की अपनी खासियत है ।

भारत का पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर: INS Vikrant

INS विक्रांत का हर हिस्सा कुछ खाश है । यह स्वदेशी संसाधनों से निर्मित एवं स्वदेशी कौशल का प्रतीक है । इसके एयरबेस में जो स्टील लगी हुई है वो भी स्वदेशी है । आज भारत विश्व के उन चुनिंदा वाले देशों में शामिल हो गया है जो स्वदेसी तकनीक से इतने विशाल एयरक्राफ्ट कैरियर का निर्माण करने में सक्षम है ।आज INS विक्रांत ने देश को एक नए गौरव और जोश से भर दिया है ।

आईएनएस विक्रांत का पुनर्जन्म:

31 जनवरी 1997 को नेवी ने INS विक्रांत को रिटायर कर दिया था । अब करीब 25 साल बाद एक बार फिर INS विक्रांत का पुनर्जन्म हो रहा है । 1971  के युद्ध में INS विक्रांत ने अपने सीहॉक लड़ाकू विमानों से दुश्मनो के छक्के छुड़ा दिए थे ।

क्या है खासियत: INS विक्रांत की

PM Modi on INS Vikrant
PM Modi on INS Vikrant

ये भारत का पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट करियर है जोकि भारत में बना  सबसे बड़ा युद्धपोत है । इसमें 30 एयरक्राफ्ट रखने की क्षमता है । इसमें 15 डेक,मल्टीस्पेसिलिटी अस्पताल,पूल ,वहीं इसमें महिलाओं के लिए स्पेशल कैबिन खुलवाया गया है ।

INS विक्रांत की कीमत,लम्बाई ,चौड़ाई :

INS विक्रांत की कीमत 20000 करोड़ रुपये है । इसका वजन 40000 टन है । इसकी लम्बाई 262 मीटर है इसकी चौड़ाई 62  मीटर है । INS विक्रांत की कुल केबिल बिछाने की लम्बाई 2400 किमी है, जो की कोच्चि और दिल्ली की दूरी के बराबर है । इस जहाज के 2300 डिब्बों में 17०० नाविकों के लिए जगह है,साथ ही महिला अधिकारियों के लिए विशेष कैबिन भी है ।

30 एयरक्राफ्ट तैनात होंगे INS Vikrant में

इस पर 30 फाइटर  जेट्स तैनात किये गए हैं । फ़िलहाल विक्रांत पर MIG-29K  फाइटर जेट तैनात होंगे ,और उसके बाद DRDO और HAL  के द्वारा विकसित फाइटर जेट शामिल होंगे ।

आईएनएस विक्रान्त से रिलेटेड आप की राय या सुझाव आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक(Team Loktantranow) पंहुचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.